टीवी टीआरपी क्या है? जाने

TRP kya hai, टीआरपी का मतलब क्या है और TV TRP full form क्या होता है के बारे में आज मैं आपको बताने वाला हूँ, अक्सर अपने लोगों को बोलते सुना होगा उस चैनल की टीआरपी बहुत ज़्यादा है।

बहुत ही कम लोग है जिनको टीआरपी के बारे में ठीक से पता है जैसा कि हमें जानते है की टीवी पर set up box लगाने के बाद हमें 250 से भी ज़्यादा चैनल देखने के ऑप्शन मिलते है जिसे हर कोई अपनी पसंद का चैनल देख पाए 

 भारत देश में ही 135 करोड़ से भी ज़्यादा लोगों रहते है ऐसे में की चैनल की पॉप्युलैरिटी सबसे ज़्यादा है इसे बारे में हर कोई जानना चाहता है।

चैनल की popularity जानने के लिए TRP नाम के एक टूल को बनाया गया है जिसे कि यह पता लगाया जा सके की किस चैनल को सबसे ज़्यादा देखा जाता है 

जैसा कि इस समय TRP घोटाला किया गया है कुछ न्यूज़ चैनल द्वारा जिनमे कुछ बड़े-बड़े चैनल के नाम भी शामिल है। 

ऐसे में आपके मन में यह सवाल ज़रूर आया होगा कि आख़िर यह TRP kya hai और ऐसा करने से क्या फ़ायदा होता है। तो चलिय जानते है 

TRP kya Hota hai?

TRP जिसका full form होता है Television Raiting Point एक ऐसा टूल प्रवाइड करता है 

जिसकी हेल्प से यह पता लगाया जा सकता है कि कौन सा टीवी चैनल सबसे ज़्यादा देखा जा रहा है एक दिन में किस चैनल को कितनी बार, कितने समय तक देखा गया है।

जिसे चैनल की पॉप्युलैरिटी का पता लगाया जाता है और उसे रेटिंग दि जाती है। 

जैसा कि अभी टीवी पर बिग बॉस और कौन बनेगा करोड़पति शुरू हो गया है और इन दोनो अग़ल अलग शो को बॉलीवुड के फ़ेमस ऐक्टर सलमान खान और महानायक अमिताभ बच्चन होस्ट कर रहे है 

यह दोनो शो हर साल एक दूसरे को टी॰आर॰पी॰ की टक्कर देते है क्यूँकि सलमान खान और महानायक अमिताभ बच्चन की वजह से इसे ज़्यादा लोग देखना पसंद करते है 

 टीआरपी का पता कैसे लगाते है 

टीआरपी क्या होता है आप जान गये है आइए जानते है टीआरपी कैसे चेक करते है  

जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया की शो कितनी बार देखा गया है।

सभी चैनल की रेटिंग जानने के लिए बड़े शहरों में कुछ विशिष्ट जगह पर कुछ मीटर डिवाइस लगाए जाते है जिसे people meter कहते है 

टीवी चैनल और सीरीयल चैनल की लोकप्रियता जानने के लिए कुछ चुनिदा जगह  people meter लगाए जाते है जो कुछ specific frequency के द्वारा पता लगाते है।

की कहा कौनसा चैनल को लोग दिन में कितने समय और कितने बार देख रहे है और उन पर कितने बार ad (advertisement) दिखे है।

people meter की हेल्प से टेलिविज़न 1-1 मिनट की इन्फ़र्मेशन को मॉनिटर करता है, मॉनिटरिंग टीम उस people meter से मिले डेटा को analyse करती है।

जिसे यह निर्धरित किया जाता है की किस टीवी चैनल या सीरीयल की कितनी बार देखा गया है जिसे उसे टीवी चैनल या सीरीयल को TRP दी जाती है।

TRP से टीवी चैनल वालों की इनकम कैसे होती है?

किसी भी टीवी चैनल की 80% कमाई उस पर दिखाए जाने वाले ad यानी विज्ञापन से होती है।

अपने देखा होगा टीवी पर 4-5 मिनट के ब्रेक आते रहते है जहाँ केवल हमें कोंपनियो के विज्ञापन देखने को मिलते है।

विज्ञापन कम्पनी,चैनल को पैसे देती है की वह अपने टीवी पर उसके product/service का प्रचार करे।

जिसे उसकी सेल बढ़ जाए, अब ऐसे में जिस चैनल को ज़्यादा लोग देखेंगे उस पर ज़्यादा विज्ञापन आयेंगे जिसे विज्ञापन कम्पनी को नए कस्टमर मिलेंगे और चैनल की TRP यानी उस चैनल को ज़्यादा लोग देखते है।

जिसे हर कम्पनी उस चैनल पर अपने प्रोडक्ट या सर्विस को प्रोमोट करने के ज़्यादा पैसे देगी जिसे उस टीवी या सीरीयल चैनल की इनकम बढ़ जाएगी।

यानी कि जिस चैनल के पास जितना यूज़र base होगा उसकी trp उतनी हाई होगी और उसकी इनकम भी।

अब आप समझ गए होगे की यह TRP घोटाला क्या था और न्यूज़ चैनल द्वारा यह क्यों किया गया था, 

ऐसे करने से उन चैनल की इनकम बहुत ज़्यादा बढ़ जाती है और चैनल कुछ चैनल No.1 बन गए थे।

अंतिम 

शब्द दोस्तों आज की इस पोस्ट में हमने जाना कि टीआरपी क्या है? और कैसे चैनल इससे अपनी कमाई करते है।

आशा करता हूँ आपको पूरी जानकारी प्राप्त हो गयी हो गयी होगी आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कॉमेंट करके पूछ सकते है। पोस्ट को अपने दोस्तों, सोशल मीडिया पर शेयर करे।ताकि लोगों को सही जानकारी मिल सके 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.