E Rupee क्या है और यह कैसे काम करता है?

e rupi kya hai in Hindi : सोमवार 2 अगस्त को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi) द्वारा भारत का पहला इलेक्ट्रॉनिक वाउचर आधारित डिजिटल पेमेंट सिस्टम लॉंच किया गया, जिसको नाम दिया गया e rupi or eRupee voucher .

इस न्यूज़ के आते ही बहुत सारे लोगों के मन में यह सवाल आने लगा है की यह E rupi क्या है? यह कैसे काम करता है? how to use e rupi in hindi?

ऐसे में हमने सोचा क्यों ना इस विषय पर थोड़ा विस्तार में बात करे, ताकि अन्य लोगों को भी पता चले की आखिर ये e rupi voucher  क्या है? और e rupi download कैसे करे?

इस electronic currency का नाम सुन कर ज़्यादातर लोगों को पहले यह लग रहा था। की यह कोई cryptocurrency है, जिसको भारत सरकार ने लॉंच किया गया है। 

लेकिन आपको बता दे e Rupi इससे थोड़ा अलग है। यह electronic currency कैसे अलग है। इसकी जानकारी आज हम आपको इस लेख के माध्यम से देने जा रहे है। 

E Rupi Kya hai in Hindi ? 

eRupi जिसका full form है Electronic Rupee Unified Interface, यह बिल्कुल UPI की तरह ही काम करेगा, लेकिन यह उससे थोड़ा यूनीक होगा।

ई-रूपी एक तरह का डिजिटल वाउचर पेमेंट सिस्टम है। जिसे आप prepaid e voucher भी कह सकते है। इस प्लेटफ़ॉर्म को NPCI यानी डिपार्टमेंट ऑफ  फाइनेशियल सर्विसेज़, मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर और नैशनल हेल्थ अथॉरिटी के माध्यम से मिलकर तैयार किया गया है।

इसके बारे में खुद प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने बताया है। कि ई-रूपी क्या है और कैसे काम करेगा। इसकी पूरी जानकारी आप नीचे दिए गये विडीओ  के माध्यम से भी समझ सकते है।

eRupi को डिजिटल करेन्सी के रूप में भारत सरकार द्वारा पहले कदम के रूप में देखा जा रहा है। eRupi एक Contactless और cashless पेमेंट सिस्टम है। जिससे SMS और R Code (Quick Response) के जरिये उपयोग में लाया जायेगा। आइए अब जानते है कि यह काम कैसे करेगा?

E Rupi या e rupee काम कैसे करेगा?

जैसा कि आप जानते है। भारत में बहुत सारे ऐसे लोग है जिनको हर महीने सरकार की तरफ़ से अलग- अलग योजनाओं का लाभ दिया जाता है। लेकिन हमें अक्सर यह न्यूज़ देखने को सुनने को मिलती है की उस व्यक्ति तक भारत सरकार द्वारा भेजे गये लाभ प्राप्त नहीं हुए है।

ऐसे अक्सर होता रहता है। इसी बात को ध्यान में रख कर e rupi को शुरू किया जा रहा है। ताकि बिना घोटाला हुये, सरकार सही व्यक्ति तक उस लाभ को पहुँचा पाये।

आइए इसे एक example से समझते है। जिससे इसे समझने में और भी आसानी हो।

मान लीजिए केंद्र सरकार स्कूल में पढ़ने वालों बच्चों को किताबें ख़रीदने के लिए कोई स्कॉलरशिप स्कीम लाई, ऐसे में ज़्यादातर यह पाया गया है। कि या तो उस विधायर्थी को पैसे ही नहीं मिल पाते है। यदि मिल भी जाते है तो बच्चे उस पैसे से अपने लिए किताब ना ख़रीद के कुछ अन्य सामान ले लेते है।

ऐसे में देखा जाये तो उस पैसे का सही उपयोग नहीं हो पाया। लेकिन वही अगर सरकार इसे e-rupi के माध्यम से पैसे दे तब वह पैसे केवल किताब ख़रीदने के लिए ही उपयोग कर पायेगा।

अब मन में यह सवाल आ रहा होगा की यह कैसे होगा और यह कैसे पता चलेगा की लाभ के पैसे सही जगह उपयोग किये जा रहे है? 

पैसे सही जगह उपयोग हो रहे है या नहीं इसकी जानकारी NPCI (National Payment Corporation of India) द्वारा रखी जाएगी।

जब भी किसी लाभार्थी को पैसे SMS या OR कोड के जरिये भेजे जायेगे। तब लाभार्थी उस पैसे को केवल उसी काम के लिए उपयोग कर पायेगा जिस काम के लिए उसे पैसे दिये गये है।

यदि वह चाहे भी की इस पैसे को किसी और काम के लिए उपयोग कर ले तो ऐसा नहीं हो पायेगा। यदि लाभार्थी एक सीमित समय तक उस पैसे का उपयोग नहीं करता तब वह राशि वापस सरकार के पास चली जाएगी।

इसलिए यह कहा जा रहा है की e rupi के जरिये पैसे जिस purpose के लिए दिये जायेगे और जिस व्यक्ति को दिये जायेगे, केवल वही उसका लाभ ले पायेगा। 

ऐसा नहीं होगा की लाभार्थी को पैसे दवाई ख़रीदने के लिए दिये गये तो वह उस पैसे को दवा ना ख़रीद के कही और उपयोग कर ले या किसी और को दे दे। 

यानी अगर पैसे दवा ख़रीदने के लिए दिए है। तो वह पैसे केवल दवा ही ख़रीदने के काम आयेंगे। ना तो लाभार्थी उस पैसे को किसी को दे पाएगा और ना ही उपयोग कर पायेगा।

कौन से बैंक जारी करेगा ई रूपी?

लाभार्थी को इस सुविधा का लाभ लेने के लिए तथा ई-रूपी से लेनदेन करने के लिए National Payment Corporation of India ने अभी तक 11 बैंकों के साथ साझेदरी की है। जिनके नाम इस प्रकार है।

  • HDFC Bank 
  • Axis Bank 
  • State Bank off India  
  • Union Bank off India 
  • kenra Bank 
  • ICICI Bank 
  • Bank Off Baroda 
  • Panjab National Bank 
  • Indian Bank 
  • Kotak Mahindra bank 
  • indusind bank
Image Credit : npci.org.in

इसके साथ ही लेनदेन की प्रक्रिया को अभी कुछ ऐप्स के माध्यम से भी किया जायेगा। जैसे की BHIM, SBI Yono, PNB merchant, SBI merchant Pay, साथ ही सरकार द्वारा जल्द ही अन्य बैंक और ऐप्स को भी जोड़ा जायेगा। 

इसके साथ ही e-rupi के माध्यम से कोई भी व्यक्ति बिना क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेटबैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के बिना भी पेमेंट कर पायेगा। साथ ही जिस लाभार्थी को SMS या OR कोड के जरिये वाउचर दिया जायेगा, वह बिना इंटरनेट के भी पेमेंट कर पायेगा। केवल पेमेंट accept करने वाले को इंटरनेट की ज़रूरत होगी। 

यदि कोई व्यक्ति किसी को E rupi voucher देना चाहता है। तो वह खुद भी इसे बना कर दूसरे व्यक्ति को भेज सकता है। इसके लिए केवल उस व्यक्ति का नाम और उसका मोबाइल नम्बर चाहिए होगा।

इसके अलावा यह सुविधा प्राइवट कम्पनी को भी दी गई है। की वह अपने कर्मचारी को भी e रूपी के जरिये पैसे की लेनदेन कर सकते है।

E Rupi को कहाँ उपयोग कर सकते है।

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया  ने भारत के अभी 1600 से भी ज़्यादा हॉस्पिटल में E रूपी की सुविधा शुरू कर दी है। जहाँ लाभार्थी ई रूपी की मदद से लेनदेन कर पायेंगे। साथ ही अन्य सरकारी संस्थाओ में भी इसका उपयोग शुरू कर दिया गया है। 

सरकार लाभार्थी को डायरेक्ट ई वोचेर सेंड कर देगी जैसे की आयुष्मान प्रधान मंत्री योजना, फ़र्टिलाइजर सब्सिडी और न्यूट्रिशनल सपोर्ट और टीवी इरैडिकेशन प्रोग्राम के तहत दवाओं की पूरी सुविधा अब e rupi के माध्यम से ही दी जाएगी।

E Rupi App Download कैसे करे?

NPCI ने यह बता दिया है की E Rupi का उपयोग करने के लिए कोई अलग से ऐप डाउनलोड करने की ज़रूरत नहीं है। NPCI के अनुसार जल्द ही इसे UPI के साथ जोड़ दिया जायेगा। 

ऐसे में यदि को व्यक्ति इसका उपयोग करना चाहता है तो उसके पास कोई ना कोई UPI app होना ज़रूरी है। यदि आपके पास कोई UPI ऐप नहीं है तब आप BHIM App का उपयोग कर सकते है। E rupi से जुड़े जितने भी अप्डेट आयेंगे उसकी जानकारी आपको वहाँ उपलब्ध करा दी जाएगी।

एक बात का ध्यान रहे की यदि आप सरकार की किसी भी नैशनल स्कीम के लिए अप्लाई करते है। तब आपको उसी नम्बर का यूज़ करना होगा, जो आपके बैंक खाते से जुड़ा हो। ई वाउचर लाभार्थी के उसी नम्बर पर भेजा जायेगा। यदि नम्बर मैच नहीं करेगा तो आपको लाभ भी नहीं मिलेगा।

e rupi kya hai in Hindi

दोस्तों आज की पोस्ट में हमने जाना की e rupi kya hai in Hindi और कैसे इसका लाभ सभी को प्राप्त होगा। यहाँ मैंने आपको बहुत ही आसान भाषा में समझने की कोशिश की है। भारत सरकार द्वारा यह शुरू की गई भारत की पहली डिजिटल करेन्सी है। जिसको आने वाले समय में पूरी दुनिया में लेनदेन करने के लिए शुरू कर दिया जायेगा। यदि आपका ई-रूपी को ले कर कोई सवाल या सुझाव है, तो हमें कॉमेंट करके ज़रूर बताये।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: